वैंकेया नायडू : शिक्ष्‍ाा पद्धति में भारतीयकरण होना जरूरी

0
600

देश के केन्द्रीय शहरी एवं विकास मंत्री वेंकैय्या नायडू ने नेहरू नगर, भिलाई में सरस्वती शिशु मंदिर में नवनिर्मित भवन का फीता काटकर लोकार्पण तथा स्वामी विवेकानंद के मूर्ति का अनवारण किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने की। इस दौरान वेकैय्या नायडू ने संबोधित करते हुए कहा कि सरस्वती शिशु मंदिर पूरे देश में शिक्षा के क्षेत्र में अच्छा कार्य कर रहा है जबकि कई ऐसी संस्थाएं हैं जो शिक्षा के नाम पर धर्म परिवर्तन कराने का कार्य कर रही है।
उन्होंने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में छत्तीसगढ़ में सरस्वती शिशु मंदिर 1 लाख 37 हजार बच्चों को अच्छी शिक्षा दे रही है। हमारा जीवन पद्धति आदिकाल, वेद काल से जो हमारे पूर्वजों ने हमें शिक्षा दी है उसे हमें आज अपने बच्चों को देना चाहिए और बच्चों को भारत का इतिहास बताना चाहिए। अनुशासन, सामाजिकता, समरूपता देश के लिए जीना इन सभी चीजों का ज्ञान हमें बच्चों को देना चाहिए ताकि बच्चों के दिल में देश के प्रति जज्बा रहे। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शिक्षा से लेकर सभी क्षेत्रों में बदलाव किया है। इसका प्रतिफल आज हमें देखने को मिल रहा है। श्री मोदी ने समाज के प्रति व्यक्ति को देश को आगे बढ़ाने में हिस्सा लेने की बात कही है। समय की आवश्यकता को देखते हुए शिशु मंदिर का विस्तार करना बहुत ही आवश्यक है। आज यहां ब्रिटिश पद्धति की जो शिक्षा दी जा रही है उसे हमें आगे नहीं ले जाना है, बल्कि शिक्षा का हमें भारतीयकरण करना चाहिए। हिन्दू शब्द को अपनी भाषा में परिभाषित करते हुए कहा कि हिन्दू शब्द का मतलब है हिन्दुस्तान की जय हो।
उन्होंने योग के महत्व को प्रतिपादित करते हुए कहा कि हमें योग करना चाहिए क्योंकि योग भी हमारे जीवन में बदलाव लाता है और योग से व्यक्ति हमेशा स्वस्थ्य रह सकता है। वहीं उन्होंने सूर्य नमस्कार के महत्व को भी बताया और कहा कि सूर्य नमस्कार के भी कई लाभ होते है इसलिए सूर्य नमस्कार करना चाहिए यदि सूर्य नमस्कार नही कर सकते तो चन्द्र नमस्कार करना ही चाहिए। श्री नायडू ने वंदे मातरम के पूर्व में हुए विरोध को उल्लेखित करते हुए कहा कि बन्दे मातरम का मतलब मां की वन्दना होता है इसलिए इसका विरोध नहीं करना चाहिए और किसी भी व्यक्ति को इसपर आपत्ति नही होनी चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here