छत्तीसगढ़ पिरामिड स्पिरिट्यूएल सोसाइटीज मूवमेंट द्वारा आज रायपुर के समता कॉलोनी स्थित महाराजा अग्रसेन इंटरनेशनल कॉलेज एवं नाकोड़ा इस्पात लिमिटिड में मोटिवेशन बाई मेडिटेशन टॉपिक पर सत्र आयोजित किया गया। इस सत्र में मुख्य वक्ता थे रिटायर्ड एयरफोर्स अधिकारी मास्टर पीवी रामा राजू साथ में उनके साथ उपस्थित थे मास्टर चंद्रशेखर। रामा राजू ने मैक कॉलेज के विद्यार्थियों तथा नाकोड़ा इस्पात लिमिटिड के अधिकारियों को बताया कि ध्यान से ही आप यह जान सकते हैं कि आपने जन्म किस उद्देश्य से लिया। अभी तक आप दूसरे के सपनों को अपना मानकर उसे साकार करने में लगे हैं। अपना खुद का सपना आप ध्यान के माध्यम से ही जान सकते हो और सफलता पा सकते हैं और साकार कर सकते हैं। प्रत्येक व्यक्ति पढाई, नौकरी केवल लक्ष्मी, वैभव, सुख-संपत्ति के लिए कर रहे हैं। जब तक आप नारायण की साधना नहीं करोगे तो लक्ष्मी कहाँ से आपके पास आएगी। नारायण को आप ध्यान के माध्यम से ही प्राप्त कर सकते हैं। पिरामिड के नीचे बैठकर ध्यान करने से बहुत ज्यादा ब्रह्मांडीय ऊर्जा आपको मिलती है जो आपके समूचे नाड़ी तंत्र के अवरोधों को खोलती है जिससे आप पूर्ण आत्मविश्वास के साथ स्वस्थ जीवन जीते हैं। आगे उनहोंने कहा पढ़ाई के साथ साथ आत्म ज्ञान भी होना जरुरी है जो आपको सफलता की ऊंचाई तक ले जाएगी और आपका जीवन खुशी और समृद्धि से भर जाएगा। उनहोंने आगे कहा कि आप दूसरों के लिए जीते हो, सोचते हो लेकिन आप खुद कब अपने लिए जियोगे और सोचोगे। कब आप अपनी आत्मा की बात सुनोगे। इसके लिए आपको अपने सांस पर ध्यान लगाना होगा जिससे आप ध्यान से मिलने वाले लाभ को प्राप्त कर सकते हैं। पीवी रामा राजू ने कहा कि मैं एयरफोर्स की नौकरी से सेवानिवृत्त होने के पश्चात संपूर्ण भारत वर्ष भ्रमण कर लोगों को निःशुल्क ध्यान करना सिखाता हूँ और स्वस्थ जीवन जीने की प्रेरणा देता हूँ। आज के इस सत्र में मैक कॉलेज के प्राचार्य डॉ समीर ठाकुर, नाकोड़ा इस्पात के प्रबंध संचालक वीरेन्द्र गोयल, संजय गोयल, विद्यार्थी, प्रोफेसर एवं स्टाफ उपस्थित थे और सभी ने साथ मिलकर बांसुरी के धुन में ध्यान करना सीखा।

0
284

छत्तीसगढ़ पिरामिड स्पिरिट्यूएल सोसाइटीज मूवमेंट द्वारा आज रायपुर के समता कॉलोनी स्थित महाराजा अग्रसेन इंटरनेशनल कॉलेज एवं नाकोड़ा इस्पात लिमिटिड में मोटिवेशन बाई मेडिटेशन टॉपिक पर सत्र आयोजित किया गया। इस सत्र में मुख्य वक्ता थे रिटायर्ड एयरफोर्स अधिकारी मास्टर पीवी रामा राजू साथ में उनके साथ उपस्थित थे मास्टर चंद्रशेखर। रामा राजू ने मैक कॉलेज के विद्यार्थियों तथा नाकोड़ा इस्पात लिमिटिड के अधिकारियों को बताया कि ध्यान से ही आप यह जान सकते हैं कि आपने जन्म किस उद्देश्य से लिया। अभी तक आप दूसरे के सपनों को अपना मानकर उसे साकार करने में लगे हैं। अपना खुद का सपना आप ध्यान के माध्यम से ही जान सकते हो और सफलता पा सकते हैं और साकार कर सकते हैं। प्रत्येक व्यक्ति पढाई, नौकरी केवल लक्ष्मी, वैभव, सुख-संपत्ति के लिए कर रहे हैं। जब तक आप नारायण की साधना नहीं करोगे तो लक्ष्मी कहाँ से आपके पास आएगी। नारायण को आप ध्यान के माध्यम से ही प्राप्त कर सकते हैं। पिरामिड के नीचे बैठकर ध्यान करने से बहुत ज्यादा ब्रह्मांडीय ऊर्जा आपको मिलती है जो आपके समूचे नाड़ी तंत्र के अवरोधों को खोलती है जिससे आप पूर्ण आत्मविश्वास के साथ स्वस्थ जीवन जीते हैं। आगे उनहोंने कहा पढ़ाई के साथ साथ आत्म ज्ञान भी होना जरुरी है जो आपको सफलता की ऊंचाई तक ले जाएगी और आपका जीवन खुशी और समृद्धि से भर जाएगा। उनहोंने आगे कहा कि आप दूसरों के लिए जीते हो, सोचते हो लेकिन आप खुद कब अपने लिए जियोगे और सोचोगे। कब आप अपनी आत्मा की बात सुनोगे। इसके लिए आपको अपने सांस पर ध्यान लगाना होगा जिससे आप ध्यान से मिलने वाले लाभ को प्राप्त कर सकते हैं। पीवी रामा राजू ने कहा कि मैं एयरफोर्स की नौकरी से सेवानिवृत्त होने के पश्चात संपूर्ण भारत वर्ष भ्रमण कर लोगों को निःशुल्क ध्यान करना सिखाता हूँ और स्वस्थ जीवन जीने की प्रेरणा देता हूँ। आज के इस सत्र में मैक कॉलेज के प्राचार्य डॉ समीर ठाकुर, नाकोड़ा इस्पात के प्रबंध संचालक वीरेन्द्र गोयल, संजय गोयल, विद्यार्थी, प्रोफेसर एवं स्टाफ उपस्थित थे और सभी ने साथ मिलकर बांसुरी के धुन में ध्यान करना सीखा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here