चौथे अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर छत्तीसगढ़ में करीब एक करोड़ लोगों के योगाभ्यास करने का बना वर्ल्ड रिकार्ड : योग को बनाएं जीवन पद्धति का हिस्सा : मुख्यमंत्री डॉ. सिंह

0
147

योग संतुलन और शांति देकर सम्पूर्ण व्यक्तित्व निखारता है: केन्द्रीय राज्य मंत्री श्री आर.के.सिंह
राजधानी के इंडोर स्टेडियम में 600 स्कूली बच्चों के साथ मुख्यमंत्री और केन्द्रीय राज्य मंत्री ने किया सामूहिक योगाभ्यास
छत्तीसगढ़ की जनता ने पिछले साल के 50 लाख लोगों के सामूहिक योगाभ्यास का अपना ही रिकार्ड तोड़ा

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने सभी लोगों से योग को जीवन पद्धति का हिस्सा बनाने का आव्हान किया है। डॉ. सिंह आज सवेरे चौथे अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर राजधानी रायपुर के इंडोर स्टेडियम में आयोजित सामूहिक योग प्रदर्शन कार्यक्रम को मुख्य अतिथि की आसंदी से संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह और केन्द्रीय केन्द्रीय बिजली एवं नवीन और नवीनीकरण ऊर्जा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री आर.के.सिंह और अन्य विशिष्टजनों ने 600 स्कूली बच्चों के साथ सामूहिक योगाभ्यास किया।
मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम में कहा – योग से शरीर स्वस्थ होता है, स्मरण शक्ति बढ़ती है और योगाभ्यास करने वालों के आत्मविश्वास का स्तर भी ऊंचा होता है। भारत के ऋषि मुनियों ने अपनी साधना और तपस्या से योग का जो ज्ञान दुनिया को दिया था, उसे आज पुनर्जीवित करने का काम प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने किया है। प्रधानमंत्री की पहल पर दुनिया में योग को अंतर्राष्ट्रीय मान्यता मिली है। पूरी दुनिया में आज 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया जा रहा है, इसके लिए मैं प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी को बधाई देता हूॅ।
उल्लेखनीय है कि छत्तीसगढ़ की जनता ने पिछले साल योग दिवस पर 50 लाख लोगों के एक साथ योगाभ्सास करने का कीर्तिमान बनाया था। आज चौथे अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर पूरे छत्तीसगढ़ में लगभग एक करोड़ लोगों ने एक साथ योगाभ्यास कर अपने ही पुराने रिकार्ड को तोड़ते हुए एक नया कीर्तिमान बनाकर इसे गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में दर्ज कराया।
डॉ. रमन सिंह ने कहा – आज पूरे प्रदेश के स्कूलों, महाविद्यालयों, 10 हजार ग्राम पंचायतों सहित विभिन्न संस्थाओं में विशेषज्ञ योगाचार्यो के मागदर्शन में सामूहिक योगाभ्यास किया गया।
केन्द्रीय बिजली राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री आर.के.सिंह ने कहा – भारत ने विश्व को योग का ज्ञान दिया। लेकिन यह विडंबना रही है कि योग भारत में प्रायः लुप्त हो रहा था। पिछले चार वर्षो में प्रधानमंत्री के प्रयासों से विश्व में योग की महत्ता स्थापित हुई है। उन्होंने कहा कि अन्य व्यायाम से शरीर और मांसपेशियां मजबूत होती हैं जबकि योग शरीर को स्वस्थ्य करता है और व्यक्तित्व को निखारता है। योग हमें बेहतर मानव बनाता है। योग भय, चिंता और क्रोध से मुक्त कर शांति देता है। केन्द्रीय राज्य मंत्री श्री सिंह ने छत्तीसगढ़ में सामूहिक योगाभ्यास का नया कीर्तिमान बनाने के लिए मुख्यमंत्री सहित छत्तीसगढ़वासियों को बधाई दी। छत्तीसगढ़ योग आयोग के अध्यक्ष श्री संजय अग्रवाल, मुख्य सचिव श्री अजय सिंह, पुलिस महानिदेशक श्री ए.एन.उपाध्याय, समाज कल्याण विभाग के विशेष सचिव श्री आर.प्रसन्ना, संचालक समाज कल्याण श्री संजय अलंग, कलेक्टर श्री ओ.पी.चौधरी सहित वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी और बड़ी संख्या में स्कूली छात्र-छात्राएं उपस्थित रहे और सामूहिक योगाभ्यास में शामिल हुए।
गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड के प्रतिनिधि श्री संतोष अग्रवाल ने नये विश्व कीर्तिमान का प्रोविजनल प्रमाण पत्र मुख्यमंत्री को प्रदान किया। इस अवसर पर दिव्यांग बच्चों द्वारा योग दिवस पर बनाई गई आकर्षक पेटिंग अतिथियों को भेंट की गई। उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री श्री मोदी ने 27 सितम्बर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए अपने भाषण में संयुक्त राष्ट्र संघ से योग दिवस को अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर मनाने का आव्हान किया था। इसके बाद महासभा के 197 सदस्य देशों द्वारा सिर्फ लगभग तीन माह के भीतर 11 दिसम्बर 2014 को भारी बहुमत से उनके इस प्रस्ताव का अनुमोदन कर दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here