‘अरपा पैरी के धार’ राजकीय गीत से हुआ राजिम मेले का आगाज

0
661

नवापारा राजिम। छत्तीसगढ़ के प्रयागनगरी राजिम में माघी पुन्नाी मेले का शुभारंभ 27 फरवरी को शाम 6 बजे विधानसभा अध्यक्ष डा. चरणदास महंत व धर्मस्व संस्कृति व पर्यटन मंत्री ताम्रध्वज साहू ने किया। कार्यक्रम की शुरुआत राजकीय गीत अरपा पैरी धार से हुई। जिसमें सभी अतिथि व उपस्थित दर्शकों ने एक साथ एक स्वर में अपने-अपने जगह पर खड़े होकर गुनगुनाया।

यह मेला शनिवार से शुरू होकर 11 मार्च महाशिवरात्रि तक चलेगा। त्रिवेणी संगम स्नान के लिए 27 फरवरी माघ पूर्णिमा, 6 मार्च जानकी जयंती और 11 मार्च महाशिवरात्रि को विशेष पर्व रहेगा। शुभारंभ समारोह की अध्यक्षता धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व मंत्री ताम्रध्वज साहू ने की। इसके अलावा कार्यक्रम में अभनपुर विधायक धनेंद्र साहू, राजिम विधायक अमितेष शुक्ल, सिहावा विधायक लक्ष्मी ध्रुव उपस्थित रहीं। वही स्थानीय जनप्रतिनिधियों में स्मृति नीरज ठाकुर अध्यक्ष जिला पंचायत गरियाबंद, पुष्पा जगन्नााथ साहू अध्यक्ष जनपद पंचायत फिंगेश्वर, देवनंदनी साहू अध्यक्ष जनपद पंचायत अभनपुर, ज्योति दिवाकर ठाकुर अध्यक्ष जनपद पंचायत मगरलोड, रेखा राजू सोनकर अध्यक्ष नगर पंचायत राजिम एवं धनराज मध्यानी अध्यक्ष नगर पालिका परिषद, गोबरा नवापारा उपस्थित थे। इसके अलावा कबीर पंथ, ब्रम्हकुमारी आश्रम परिवार, सिधेश्वरानंद महाराज, स्थानीय पंडितगण भी मौजूद थे। इस दौरान कलेक्टर गरियाबंद नीलेश क्षीरसागर ने राजिम मेला से जुड़ी प्रतिवेदन प्रस्तुत किया। इस दौरान पर्यटन एवं संस्कृति के सचिव पी अंबलगन, कलेक्टर निलेश क्षीरसागर, पुलिस अधीक्षक भोजराम पटेल एवं वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी सहित स्थानीय जनप्रतिनिधि मौजूद थे।

खर्चीली शादी से बचने के लिए सामूहिक विवाह को महत्व देना जरूरी : ताम्रध्वज

भगवान श्रीराजीव लोचन मंदिर परिसर में राजिम माघी पुन्नाी मेला के अवसर पर पहले दिन ही मुख्यमंत्री कन्या सामूहिक विवाह सह-जनजागरूता कार्यक्रम के अंतर्गत 28 जोड़े का विवाह सम्पन्ना हुआ। जोड़ों ने मंत्रोचार के साथ सात फेरे लिए तथा सात वचन के साथ एक-दूसरे का हाथ थामा। इस मौके पर मुख्य अतिथि के रूप उपस्थित प्रदेश के गृह एवं जिले के प्रभारी मंत्री ताम्रध्वज साहू ने वर-वधू को बधाई देते हुए आशीर्वाद प्रदान किया। उन्होंने कहा कि आज लोग शादी समारोह में मेहनत के कमाई की मोटी रकम खर्च कर देते हैं जबकि उससे जीवकोपार्जन के लिए छोटे-मोटे व्यवसाय किया जा सकता है। खर्चीली शादी से बचने के लिए सामूहिक विवाह को महत्व देना जरूरी है।

कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे प्रथम पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री तथा विधायक अमितेष शुक्ल प्रत्येक जोड़ा के पास पहुंचकर नवदांपत्य जीवन की मंगलकामना को लेकर शुभाशीर्वाद प्रदान किया। उन्होंने कहा कि भगवान राजीवलोचन के प्रांगण में शादी समारोह का आयोजन अपने आप में महत्व लिये हुए हैं। जिला कार्यक्रम अधिकारी जगरानी ए-ा ने बताया कि सभी 28 जोड़े जिले के फिंगेश्वर, छुरा, मैनपुर, गरियाबंद, विकासखण्ड से है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here