Dengue In Raipur: रायपुर में डेंगू के 49 केस मिले, किट की कमी से जांच का संकट जाने किस शहर में कितने मिले डेंगू मरीज..

0
55

 Dengue In Raipur: राजधानी में डेंगू के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। जांच किट की कमी मरीजों की पहचान में रोड़ा बन रही है। स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक राज्य में सर्वाधिक डेंगू के मामले रायपुर में देखने को मिल रहे हैं। यहां जनवरी से अब तक जिले में 49 केस मिले हैं। इसमें 34 केस जुलाई में ही सामने आए हैं। वहीं मलेरिया के दो मरीज मिले हैं। डेंगूू और मलेरिया रोगियों की पहचान के लिए हर दिन 500 से अधिक जांच की जरूरत है, लेकिन जांच किट की कमी की वजह से अधिकतम 300 जांच ही कर पा रहे हैं। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग को पत्र भी लिखा गया है।

इधर स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक सुबह छह से नौ बजे और शाम 4:30 से सात बजे के बीच दवा के छिड़काव से ही डेंगू और मलेरिया वाले मच्छरों पर असर होता है, क्योंकि यह मच्छर सुबह और शाम को ही एक्टिव होते हैं। इस दौरान घरों की खिड़की और दरवाजे खुले रखने चाहिए, ताकि दवाएं पहुंच सकें। स्वास्थ्य विभाग ने नगर निगम, नगर पालिका और प्रशासन को निर्देश जारी किया है। रायपुर नगर निगम का दावा है कि दवाओं का छिड़काव लगातार किया जा रहा है, लेकिन शहर के कई चिह्नित इलाकों में प्रक्रियाएं नहीं हो रही हैं। वहीं अभियान को लेकर भी स्वास्थ्य विभाग व निगम में सामंजस्य की कमी नजर आ रही है।

ये है डेंगू और मलेरिया के लक्षण

तेज बुखार, सिर दर्द, मांसपेशियों में दर्द, चमड़ी पर दाने, आंखों के पिछले भाग में दर्द होना, मसूड़ों व नाक से खून बहना और जोड़ों में दर्द व सूजन इनके लक्षण हैं। डेंगू के लक्षण होने पर समय से डाक्टर की सलाह लें और डाक्टर की सलाह पर ही दवा का सेवन करें।

ऐसे बचें डेंगू, मलेरिया से

घर में रखे गमले की ट्रे, कूलर, फ्रिज, पानी की टंकी को खाली कर रखें, ताकि मच्छर के अंडे, लार्वा को नष्ट किया जा सके। मच्छरों को पनपने से रोकने के लिए पुराने टायर, मटके, कबाड़ आदि में बरसात का पानी एकत्र न होने दें। घर के बाहर छोटे गड्ढों में मिट्टी का भराव करें। पानी के फैलाव को रोकने के लिए नियमित रूप से साफ-सफाई और दवाई का छिड़काव करते रहें।

राज्य के आठ जिलों में डेंगू के मरीज

जिला – केस

रायपुर – 49

बस्तर – 4

दुर्ग – 3

कांकेर – 1

बलौदाबाजार – 1

रायगढ़ – 1

बिलासपुर – 1

सूरजपुर – 1

नोट : आंकड़ें जनवरी 2021 से अब तक।

जिम्मेदारों का कहना है

मामले के संबंध में सीएमएचओ रायपुर डा. मीरा बघेल ने कहा कि इस वर्ष डेंगू के 49 केस मिले हैं। इसमें 34 केस हाल ही के हैं। मरीज मिलने पर आसपास जांच अभियान चला रहे हैं। किट की कमी की वजह से लक्ष्य पूरा करने में दिक्कत आ रही है। फिर भी हम औसत 300 लोगों की जांच हो रही।

नगर निगम, रायपुर के स्वास्थ्य अधिकारी विजय पांडेय ने कहा कि मच्छर जनित रोगों की रोकथाम के लिए समय-समय पर दवा का छिड़काव किया जाता है। बारिश के दौरान दवा छिड़काव नहीं किया जाता है। डेंगू और मलेरिया बीमारी के लिए भी हम जागरूकता अभियान चला रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.