छत्तीसगढ़-महाराष्ट्र को जोड़ने के लिए देश की 6वीं वंदे भारत ट्रेन, 11 दिसंबर को मिलेगी PM मोदी की हरी झंडी

11 दिसंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बिलासपुर (छत्तीसगढ़)-नासेमी-हाई-स्पीड ट्रेन के सभी कोच स्वचालित दरवाजों, जीपीएस-आधारित ऑडियो-विजुअल यात्री सूचना प्रणाली, मनोरंजन उद्देश्यों के लिए ऑनबोर्ड हॉटस्पॉट वाई-फाई और आरामदायक सीटों से लैस हैं |

गपुर (महाराष्ट्र) रूट पर चलने वाली देश की छठी सेमी-हाई स्पीड वंदे भारत ट्रेन का उद्घाटन करेंगे, मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, ट्रेन सप्ताह में छह दिन चलेगी और यात्रा का एक चरण करीब साढ़े पांच घंटे में पूरा करेगी, एक अधिकारी ने यह भी बताया की बिलासपुर-नागपुर वंदे भारत ट्रेन का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नागपुर में करेंगे, यह ट्रेन बिलासपुर से सुबह करीब 6.45 बजे रवाना होगी और दोपहर करीब 12.15 बजे नागपुर पहुंचेगी, इसी तरह ट्रेन दोपहर 2 बजे नागपुर से निकलकर शाम 7.35 बजे बिलासपुर पहुंचेगी, अभी सुपरफास्ट ट्रेनों को नागपुर पहुंचने में लगभग सात घंटे लगते हैं, लेकिन यह ट्रेन लगभग साढ़े पांच घंटे में पूछेगी |

75 वंदे भारत ट्रेनों के उद्घाटन का लक्ष्य

नई पीढ़ी की वंदे भारत ट्रेन का पहली बार इस साल अक्टूबर में मुंबई-अहमदाबाद रूट पर उद्घाटन किया गया था, रेलवे का अगले साल अगस्त तक 75 वंदे भारत ट्रेनों का उद्घाटन करने का लक्ष्य है, सेमी-हाई-स्पीड ट्रेन के सभी कोच स्वचालित दरवाजों, जीपीएस-आधारित ऑडियो-विजुअल यात्री सूचना प्रणाली, मनोरंजन उद्देश्यों के लिए ऑनबोर्ड हॉटस्पॉट वाई-फाई और आरामदायक सीटों से लैस हैं. हालांकि, पहली वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन को 15 फरवरी, 2019 को नई दिल्ली-कानपुर-इलाहाबाद-वाराणसी रूट पर शुरू की गयी थी | 

सुरक्षा के मामलों में बेहतर

वदे भारत 2.0 ट्रेनों में संचालन में सुरक्षा बढ़ाने के लिए कवच (ट्रेन कोलिजन अवॉइडेंस सिस्टम) लगा हुआ है, हर कोच में चार इमरजेंसी विंडो जोड़े जाने से सुरक्षा में सुधार होगा, पहले दो के बजाय कोच के बाहर रियरव्यू कैमरों सहित चार प्लेटफॉर्म साइड कैमरे लगे हुए हैं. ट्रेन के बेहतर नियंत्रण के लिए नए कोचों में लेवल-II सेफ्टी इंटीग्रेशन सर्टिफिकेशन है |

वंदे भारत की खासियत यह है कि, 15 अगस्त, 2021 को लाल किले की प्राचीर से राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में प्रधानमंत्री मोदी जी ने घोषणा की थी कि, स्वतंत्रता के अमृत महोत्सव के 75 सप्ताह के दौरान, 75 वंदे भारत ट्रेनें देश के हर कोने को जोड़ेंगी, गति, सुरक्षा और सेवा इस ट्रेन की पहचान है, वंदे भारत एक्सप्रेस 160 किमी प्रति घंटे की अधिकतम गति तक चल सकती है और इसमें शताब्दी ट्रेन जैसी कोच हैं, लेकिन यात्रियों के लिए बेहतर अनुभव है. गति और सुविधा के मामले में यह ट्रेन भारतीय रेलवे के लिए अगली बड़ी पहुंच हैं, इसके अलावा, सभी कोच में ऑटोमेटिक डोर लगे हैं. जीपीएस आधारित ऑडियो-विजुअल यात्री सूचना प्रणाली, मनोरंजन प्रयोजनों के लिए ऑनबोर्ड हॉटस्पॉट वाई-फाई और बहुत ही आरामदायक बैठने की जगह के अलावा घूमने वाली कुर्सियां भी हैं,इसके साथ ही इस ट्रेन के सभी कोचों में सभी शौचालय बायो-वैक्यूम प्रकार के हैं, साइड रिक्लाइनर सीट की सुविधा जो एग्जीक्यूटिव क्लास के यात्रियों को दी जा रही है, वंदे भारत एक्सप्रेस में कुल 1,128 यात्रियों के बैठने की क्षमता है| 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *