सांसद अरुण साव का प्रतिनिधि बनकर ₹3.50 लाख की ठगी, नौकरी लगाने युवती को दिया झांसा, नहीं दर्ज हुई FIR

बिलासपुर में एक युवक ने खुद को भाजपा प्रदेश अध्यक्ष व सांसद अरुण साव का प्रतिनिधि बताकर युवती से तीन लाख ₹50 हजार की ठगी कर ली. युवक ने पहले युवती से दोस्ती की और उसे पत्नी बनाने का झांसा दिया. इसके बाद उसकी सरकारी नौकरी लगाने के नाम पर पैसे वसूल लिए. ठगी के शिकार युवती ने इस मामले की शिकायत पुलिस की है. लेकिन, एसपी के निर्देश के बाद भी पुलिस मामले में कार्रवाई नहीं कर रही है. पूरा मामला सकरी थाना क्षेत्र का है.

23 वर्षीय युवती सकरी थाना क्षेत्र में रहती है. युवती की होरीलाल अनंत उर्फ राज अनंत नाम के युवक से पुरानी जान-पहचान थी. करीब दो साल पहले युवक की मुलाकात युवती से हुई, तब उसने अपने आप को सांसद अरूण साव का प्रतिनिधि बताया. इस दौरान उसने युवती से मोबाइल नंबर ले लिया और बातचीत करने लगा. बातचीत के दौरान ही उसने युवती को बताया कि उसकी पत्नी व दोनों बच्चों की मौत हो चुकी है, जिसके बाद से वह अकेला हो गया है.

इसके बाद से युवती और युवक बातचीत करने लगे. इस बीच उसने युवती से दोस्ती की और उसके साथ शादी करने का प्रस्ताव रखा. युवती उसकी बातों में आ गई और शादी के लिए हामी भर दी. कुछ महीने बाद होरीलाल उसे अपने घर ले गया. बातचीत के दौरान बताया कि उसके माता-पिता को नौकरी वाली बहू चाहिए. तब उसने युवती को नौकरी लगवाने का झांसा दिया. साथ ही उससे 3 लाख 50 हजार रुपए की मांग की. उसके भरोसे में आकर युवती ने अपने परिजन से बातचीत की और घर गिरवी रखकर उसे पैसे दे दिए.

पैसे देने के बाद काफी समय तक युवती की नौकरी नहीं लगी. नौकरी नहीं मिलने पर युवती ने उसे पैसे वापस करने के लिए कहा. तब युवक उसे गोलमोल बातकर घूमाने लगा. लेकिन, युवती को पैसे नहीं लौटाए. बाद में युवक ने पैसे देने से मना कर दिया. इस बीच युवती केस दर्ज कराने के लिए सकरी थाने का चक्कर काटती रही. लेकिन, पुलिस कोई कार्रवाई नहीं की. परेशान होकर युवती ने एसपी संतोष सिंह से शिकायत की. तब एसपी के निर्देश के बाद प्रशिक्षु आईपीएस व थाना प्रभारी अमन झा ने केस दर्ज करने का भरोसा दिलाया है.

होरीलाल उर्फ राज अनंत अपने आप को सांसद प्रतिनिधि होने का दावा करता रहा. लेकिन, वह सांसद प्रतिनिधि नहीं है. कथित सांसद प्रतिनिधि ने मस्तूरी थाना क्षेत्र के ग्राम थेम्हापार निवासी मंजेश कुमार पात्रे पिता छोटेलाल (27) से भी धोखाधड़ी की है. होरीलाल ने उससे जान पहचान का फायदा उठाया. उसे भी उसने खुद को सांसद प्रतिनिधि होने का झांसा देकर लेखापाल के पद पर नियुक्त कराने का दावा किया और फर्जी नियुक्ति पत्र दे दिया. इसके बदले में उससे ₹4 लाख वसूल लिए. युवक को जब नौकरी नहीं मिली, तब उसने पैसे वापस मांगे। लेकिन, उसने पैसे नहीं दिए. इस मामले की शिकायत पर भी पुलिस ने अब तक कोई कार्रवाई नहीं की है.

इधर, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष व सांसद अरूण साव ने कहा कि होरीलाल उर्फ राज अनंन से उनका कोई संबंध नहीं है. ना ही वह उनका कोई प्रतिनिधि है. उस युवक का भाजपा से भी कोई लेना देना नहीं है. ऐसे लोगों के खिलाफ पुलिस को सख्ती से कार्रवाई करना चाहिए. उन्होंने लोगों से ऐसे ठगों से सावधान रहने की अपील भी की है.

प्रशिक्षु IPS व थाना प्रभारी अमन झा का कहना है कि युवती की शिकायत के आधार पर युवक से संपर्क करने का प्रयास किया गया. लेकिन, उसे संपर्क नहीं हो सका है. जानकारी मिली है कि युवक ने कई लोगों के साथ धोखाधड़ी की है. सभी पीड़ितों की जानकारी जुटाई जा रही है. मामले की जांच के बाद केस दर्ज किया जाएगा.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *