महाबजट से छत्तीसगढ़ को है उम्मीदें: यूज्ड कारों पर पांच प्रतिशत लगे जीएसटी 

एक फरवरी को पेश होने वाले आम बजट का व्यावसायिक समूहों के साथ आम उपभोक्ताओं को बेसब्री से इंतजार है। बहुत से लोग ऐसे हैं, जो नई कार महंगी होने के कारण यूज्ड कार खरीदते हैं।

एक फरवरी को पेश होने वाले आम बजट का व्यावसायिक समूहों के साथ आम उपभोक्ताओं को बेसब्री से इंतजार है। बहुत सारे ऐसे भी लोग हैं, जो नई कार महंगी होने के कारण यूज्ड कार खरीदते हैं। जबकि यूज्ड कारों पर भी जीएसटी अलग-अलग होने के कारण इसकी खरीदी महंगी पड़ती है। ऐसे में कारोबारी यूज्ड कारों पर जीएसटी की दर घटाने की मांग की है। कारोबारियों का कहना है कि यूज्ड कारों पर जीएसटी की दर पांच प्रतिशत होनी चाहिए। इससे उपभोक्ताओं को काफी फायदा होगा। जीएसटी कम होने से यूज्ड कार व्यवसाय भी तेजी से बढ़ती जाएगी।

फेडरेशन आफ आटोमोबाइल डीलर्स एसोसिएशन(फाडा) सरकार को इस संबंध में सुझाव भी देने की तैयारी में है। फाडा के राष्ट्रीय अध्यक्ष मनीषराज सिंघानिया ने कहा कि यूज्ड कारों पर पांच प्रतिशत जीएसटी से सभी को फायदा होगा।कारोबारियों का कहना है कि सरकार को ऐसी पालिसी लानी चाहिए, जिससे आटोमोबाइल की रफ्तार बढ़ सके। इसके साथ ही इलेक्ट्रिक गाड़ियों के उत्पादों पर भी जीएसटी की दर घटाई जाए।

फाडा के अध्यक्ष मनीषराज सिंघानिया ने कहा कि इलेक्ट्रिक गाड़ियों को अफोर्डेबल बनाने के लिए भी पालिसी लानी चाहिए। साथ ही चार्जिंग स्टेशनों की संख्या बढ़ाने और ईवी खरीदने वालों को इंसेंटिव भी देना होगा। पेट्रोल डीजल की बढ़ती कीमतों के देखते हुए इलेक्ट्रिक गाड़ियों को बढ़ावा देना जरुरी है। आम उपभोक्ताओं को राहत देने के लिए आयकर की छूट बढ़ाई जाए। आयकर की छूट बढ़ाने का फायदा कारोबारियों के साथ-साथ आम उपभोक्ताओं को भी होगा। आयकर की छूट बढ़ाने के साथ ही जीएसटी नियमों का पालन करना आवश्यक है। जीएसटी नियमों के चलते इन दिनों व्यापार उद्योग जगत को काफी परेशानी हो रही है। इसके साथ ही पीएलआइ योजना में स्टार्टअप्स को भी शामिल किया जाए।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *