ED टीम पर हमले में FIR दर्ज, अफसरों पर हमला कर गाड़ी में की थी तोड़फोड़, CM के OSD के घर पहुंची थी छापा मारने

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के ओएसडी आशीष वर्मा के घर छापे के दौरान ED (प्रवर्तन निदेशालय) की टीम पर हमले और उनकी गाड़ी में तोड़फोड़ करने का मामला दर्ज किया गया है. भिलाई-3 पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है. लोगों द्वारा ED के अधिकारियों को दौड़ाने का वीडियो सामने आया था.

ED की तीन अलग-अलग टीमों ने 23 अगस्त बुधवार तड़के भिलाई-3 निवासी मनीष बंछोर और आशीष वर्मा सहित उनके करीबी विजय भाटिया के नेहरू नगर भिलाई स्थित घर छापेमारी की थी. इस दौरान मनीष बंछोर और आशीष वर्मा के घर के बाहर समर्थकों का जमावड़ा लग गया और कार्रवाई का विरोध किया जा रहा था. तभी कुछ लोग ने घर के अंदर घुसने की कोशिश की तो सुरक्षा के लिए तैनात CISF के जवानों से उनकी धक्का मुक्की हुई थी.

इसके बाद शाम को जब ED की टीम आशीष वर्मा के घर से कार्रवाई कर जाने लगी तो आक्रोशित समर्थकों ने उन्हें मारने के लिए दौड़ा लिया. इतना ही नहीं कुछ लोगों ने ED के अधिकारियों की कार में पथराव कर उसका कांच भी तोड़ दिया. मौके की नजाकत को देखते हुए ED के अधिकारी और जवान वहां से निकल गए.

अफसरों से बदसलूकी और गाड़ियों में तोड़फोड़ के मामले पर ED ने दुर्ग एसपी शलभ सिन्हा को पत्र लिखकर मामले की शिकायत की थी. शिकायती ई-मेल में अराजक तत्वों पर कार्रवाई करने को कहा गया था. बताया जा रहा है कि कार्रवाई न होने पर ED की ओर से हार्ड कॉपी भी SP को सौंपी गई. इसके बाद भिलाई-3 पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज जांच शुरू कर दी है. पुलिस ने धारा 427, 353, 341, 506, 34 के तहत अपराध दर्ज किया है.

दुर्ग पुलिस की सुरक्षा के बावजूद देश की इतनी बड़ी एजेंसी के अधिकारियों पर हमला होने की जानकारी पुरानी भिलाई पुलिस को नहीं है. पुरानी भिलाई थाने के टीआई मनीष शर्मा का कहना है कि उन्हें इस घटना के बारे में जानकारी ही नहीं है. वो पूरे समय मौके पर तैनात थे. शाम के समय थाने आ गए थे. वहां लोग काफी आक्रोशित थे, लेकिन ED पर हमला होने की जानकारी उन्हें नहीं है.

हमले के वीडियो में दिख रहा है कि ED के अधिकारी आशीष वर्मा के घर से निकल रहे हैं. सुरक्षा जवानों के होते हुए भी कांग्रेस समर्थकों ने उन्हें दौड़ाना शुरू कर दिया. पब्लिक के आक्रोश को देख कर ED के अफसरों और उनके सुरक्षा कर्मी भागने लगे. यह देख पब्लिक उन्हें दौड़ाने लगी.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *