Korba: 10वीं के छात्र ने ब्रेन ट्यूमर से परेशान होकर कीटनाशक पीकर दी जान, इलाज के लिए घर-खेत रखा गिरवी

सुरेश के भाई सुनील का कहना यह है कि सुरेश पढ़ाई-लिखाई में बेहद ही होशियार था।  हमेशा से उसके अच्छे नंबर आया करते थे। लेकिन जब से उसे बिमारी हुआ, तब से वह बहुत ही परेशान रहा करता था। जिला अस्पताल चौकी प्रभारी रविंद्र कुमार जनार्दन ने बताया कि परिजनों का बयान दर्ज किया गया है।  

 छत्तीसगढ़ के कोरबा जिला में 10वीं कक्षा में पढ़ने वाले एक छात्र ने खुदखुशी कर ली है। बताया जा रहा है की छात्र लम्बे समय से ब्रेन  ट्यूमर की बीमारी से जूझ रहा था। उसके इलाज के लिए परिजनों ने घर और खेत भी गिरवी रख दिया था। इससे परेशान होकर छात्र ने मंगलवार रात कीटनाशक पी लिया और इलाज के दौरान देर रात उसकी मौत हो गई। सूचना मिलने के बाद पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। मामला करतला थाना क्षेत्र का है। 

पांच साल से थी ब्रेन ट्यूमर की बीमारी  

मिली गई जानकारी के मुताबिक, नवापारा गांव निवासी मान सिंह खेती-किसानी करते हैं। उनका बड़ा बेटा सुनील 11वीं कक्षा में पढ़ाई करता है। जबकि छोटा सुरेश (17) 10वीं का छात्र था। सुरेश को करीब पांच साल पहले ब्रेन ट्यूमर हो गया था। इसके बाद से ही उसका इलाज चल रहा था। इसमें लाखों रुपये खर्च हो चुके थे। परिजनों ने इलाज के लिए घर और खेत को भी गिरवी रख दिया था। एक साल पहले उसका ऑपरेशन भी हुआ था, पर वह ठीक नहीं हो पा रहा था।  

पढ़ाई में काफी होशियार था सुरेश

सुरेश के भाई सुनील ने बताया कि वह पढ़ाई-लिखाई में काफी होशियार था। हमेशा से उसके अच्छे नंबर आते थे। जब से वह बीमार हुआ, उसके बाद से ही परेशान रहने लगा था। जिला अस्पताल चौकी प्रभारी रविंद्र कुमार जनार्दन ने बताया कि, परिजनों का बयान दर्ज किया गया है। पोस्टमार्टम के बाद शव को परिजनों को सौंप दिया है।

उल्टियां करते देर रात देखा परिजनों ने

परिजनों  पुलिस  बताया की हमने मंगलवार की रात साथ बैठकर खाना खाया। उसके बाद सोने चले गए। देर रात जब नींद खुली तो देखा की सुरेश कमरे के बाहर उल्टियां कर रहा है। उससे पूछे जाने पर उसने कहा कि, पूछा तो बताया कि कीटनाशक का सेवन किया था। इस पर परिजन उसे तत्काल ही जिला अस्पताल ले गए, वहां उपचार के दौरान सुरेश की मौत गई।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *