छत्तीसगढ़: “पौधा तुंहर द्वार” के तहत फ्री में मिलेंगे पौधे, घर पहुंच मिलेगी सुविधा

छत्तीसगढ़ में हरियाली के लिए लोगों को फ्री में पौधे बांटने का कारवां शुरू हो गया है. वन मंत्री मोहम्मद अकबर ने रायपुर स्थित शंकर नगर के अपने निवास कार्यालय में विविध प्रजातियों के पौधों से भरे दो हरियाली प्रसार वाहनों को हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया. वन विभाग की ‘पौधा तुहर द्वार‘ योजना के तहत रायपुर नगर निगम अंतर्गत घर तक निःशुल्क पौधा पहुंचाकर दिया जाएगा. इस दौरान विभाग ने गेड़ी का भी वितरण किया गया. स्वच्छ वातावरण और वृक्षारोपण के प्रति लोगों को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से वन विभाग इस योजना के तहत राज्यभर में पौधा वितरण किया जा रहा है.

विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक यह योजना लगभग डेढ़ माह तक चलेगी, जिसमें आंवला, करंज, नीम, गुलमोहर, जामुन, मुनगा, कचनार, अमरूद, सीताफल, पेल्टाफार्म, नींबू, बादाम आदि प्रजाति के पौधों को आम जनों को मांग मुताबिक पौधों को घर, दुकान, आफिस या किसी भी जगह पहुंचाकर वृक्षारोपण करने के लिए फ्री में पौधा दिया जायेगा. इस योजना के तहत फ्री में पौधा पाने के लिए लोगों को वन विभाग के दफ्तर तक आने की जरूरत भी नहीं पड़ेगी क्योंकि बल्कि इस योजना के तहत व्हाटसएप नम्बर 7587017614 पर संपर्क करना होगा. जिसके बाद विभाग 2 से 3 दिन के भीतर पौधा लेकर सीधे घर पहुंचेगा. इस योजना के तहत एक व्यक्ति एक बार में ज्यादा से ज्यादा 5 पौधें की मांग कर सकता है.

बीते साल में ‘पौधा तुंहर द्वार‘ योजना के तहत 92 स्थलों में 2164 हितग्राहियों को 10207 पौधे जाम आंवला, नींबू, सीताफल, कटहल, बेल, जामुन, नीम, कचनार, गुलमोहर और मुनगा जैसे पौधों का वितरण किया गया था. मनरेगा योजना अंतर्गत सरकारी, नगर निगम, शिक्षण संस्थाओं को 571974 पौधों का भी निःशुल्क वितरण किया गया था. मनरेगा योजना में इस साल भी 29 शासकीय, अर्ध शासकीय, शिक्षण संस्थाओं समेत अन्य हितग्राहियों को कुल 135965 पौधों मांग अनुसार निःशुल्क वितरण किया गया है.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *