“द केरल स्टोरी” को लेकर छत्तीसगढ़ में राजनीति तेज, भाजपा और कांग्रेस आमने-सामने

भाजपा प्रदेश सह-प्रभारी नितिन नबीन के बयान पर कांग्रेस मीडिया विभाग के अध्यक्ष सुशील आनंद शुक्ला ने पलटवार किया है. शुक्ला ने कहा है कि, भाजपा की केंद्र सरकार ने बेरोजगारों, बुजुर्गों और महिलाओं के लिए कई योजनाएं बंद कर दी, उसपर बात नहीं करनी है और अब राजनीति के लिए द केरल स्टोरी फिल्म को टैक्स फ्री करने की मांग कर रहे हैं.

शुक्ला ने आगे कहा कि, भाजपा राम नाम का इस्तेमाल राजनीतिक फायदे के लिए करती है. नितिन नबीन अभी नये है. इसलिए छत्तीसगढ़ की संस्कृति से परिचित नहीं है. उन्हें पता करना चाहिए कि यहां भाजपा के नेता ने 30 साल तक भगवान राम के एक मंदिर में ताला लगाकर रखा. ये भी उन्हें पता होनी चाहिए कि कांग्रेस की राजीव गांधी सरकार ने ही राम मंदिर का ताला खुलवाया था.

गौरतलब है कि भाजपा प्रदेश सह-प्रभारी नितिन नबीन ने द केरल स्टोरी को छत्तीसगढ़ सहित सभी प्रदेशों में टैक्स फ्री करने की मांग की है. उन्होंने कहा कि इस मामले में मैं सीएम से भी कहूंगा कि है हिम्मत तो इसे टैक्स फ्री करिए. सीएम भूपेश बघेल रामराज्य का मतलब नहीं सममझते. रामराज्य समझने के लिए अभी 100 जन्म लेना होगा.

बिरनपुर मामले को लेकर नितिन नबीन ने कहा कि, रविन्द्र चौबे से शासन-प्रशासन ने एकबार भी नहीं पूछा. चौबे उस क्षेत्र के नेता हैं. जबकि मृतक भुवनेश्वर साहू के परिवार के लोगों ने चौबे की भूमिका पर सवाल उठाए थे. हमारी पार्टी भुवनेश्वर साहू के परिवार को पूरा न्याय दिलाने की कोशिश करेगी. राम के अस्तित्व पर सवाल उठाने वाले लोग आज बजरंगबली पर ताला लगाने की बात करते हैं. बजरंगबली को मुख्यमंत्री चुनौती दे रहे हैं

बैंगलुरू में सीएम भूपेश बघेल की पीसी और रामराज्य वाले बयान पर नितिन नबीन ने कहा कि, भाजपा अपने विचार से चलती है, जो इस विचार से चलेगा वो साथ रहेगा. कांग्रेस अपने घर में झांके. सीएम भूपेश बघेल रामराज्य का मतलब नहीं सममझते. रामराज्य समझने के लिए अभी सौ जन्म लेना होगा. राम पर ताला लगाने वाले लोग आज रामराज्य की बात करते हैं. जो अपना विरोध नहीं सुन पाते वो कैसे रामराज्य लाएंगे?

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *