‘प्लीज कका रिजल्ट जारी करवा दो’, CM और डिप्टी सीएम हाउस पहुंचे SI भर्ती के अभ्यर्थी, आचार संहिता से पहले जॉइनिंग देने की मांग

रायपुर में मुख्यमंत्री निवास और डिप्टी CM सिंहदेव के बंगले के बाहर मंगलवार को भीड़ लगी रही. यह सभी सब-इंस्पेक्टर भर्ती परीक्षा के अभ्यर्थी हैं, जो चुनाव की आचार संहिता लगने से पहले रिजल्ट जारी करने और ज्वाइनिंग देने की मांग कर रहे हैं.

सब इंस्पेक्टर, सूबेदार और प्लाटून कमांडर भर्ती के लिए शारीरिक परीक्षा से लेकर इंटरव्यू तक की प्रक्रिया 8 सितंबर को पूरी हो चुकी है. अगर आचार संहिता लगती है तो उनकी भर्ती रुक सकती है. इसलिए अभ्यर्थियों ने गुजारिश करते हुए कहा कि, प्लीज कका रिजल्ट जारी करवा दो.

SI भर्ती परीक्षा अभ्यर्थी कोमिन साहू ने कहा कि सभी प्रक्रिया पूरी हो गई है, लेकिन अंतिम चयन सूची अभी तक जारी नहीं की गई है. मैं मुख्यमंत्री से निवेदन करती हूं कि प्लीज कका अपने भतीजे-भतीजियों के लिए रिजल्ट जितना जल्दी हो सके जारी करवा दो.

भर्ती प्रक्रिया इन चरणों मे पूरी हुई-

  • जून-जुलाई 2022- शारीरिक नापजोख
  • 29 जनवरी 2023- प्रारम्भिक परीक्षा
  • 26 मई 2023 से 29 मई 2023 तक- मुख्य परीक्षा
  • 18 जुलाई 2023 से 30 जुलाई 2023 तक- शारीरिक दक्षता परीक्षा
  • 17 अगस्त 2023 से 08 सितम्बर 2023 तक- साक्षात्कार परीक्षा

अभ्यर्थियों का कहना है कि, इससे पहले भी हम विधायक और मंत्रियों से मुलाकात कर चुके हैं, लेकिन हमें किसी ने कोई भी आश्वासन नहीं दिया है. रिजल्ट आखिर क्यों रोका गया है समझ नहीं आ रहा है. हम सभी बेहद परेशान हैं. घरवाले भी कहते हैं कि रिजल्ट क्यों नहीं आ रहा है.

रमन सरकार के दौरान अगस्त 2018 में सब इंस्पेक्टर, सूबेदार और प्लाटून कमांडर के 655 पदों पर भर्ती के लिए विज्ञापन जारी किया गया था. आचार संहिता और प्रदेश में सरकार बदलने के बाद भर्ती प्रक्रिया रोक दी गई थी. अभ्यर्थियों के आंदोलन के बाद कांग्रेस सरकार ने 2021 में पदों में बढ़ोतरी की थी और 975 पदों के लिए विज्ञापन जारी किया था.

भर्ती के लिए फिजिकल जुलाई 2022 में हुआ. मुख्य परीक्षा 26 से 29 मई 2023 को हुई. शारीरिक परीक्षा 18 से 30 जुलाई 2023 तक हुई. साक्षात्कार परीक्षा 17 अगस्त से 8 सितंबर 2023 को हुई थी. अभ्यर्थी अब अंतिम चयन सूची की मांग कर रहे हैं.

हाईकोर्ट में भर्ती के खिलाफ याचिकाएं लगाई गई थी. जिसमें याचिकाकर्ताओं का कहना था कि, पुलिस भर्ती प्रक्रिया में छत्तीसगढ़ व्यावसायिक परीक्षा मंडल की ओर से भारी अनियमितता बरती जा रही है. प्लाटून कमांडर के पद पर महिलाओं की भर्ती की जा रही है. लिखित परीक्षा के अंक भी जारी नहीं किए जा रहे हैं. लेकिन सुनवाई करते हुए भर्ती के खिलाफ लगी याचिकाओं को हाईकोर्ट ने खारिज कर दिया है.

याचिका के अनुसार कुल पदों में से 247 पद प्लाटून कमांडर के लिए आरक्षित किया गया है. विज्ञापन में स्पष्ट किया गया था कि महिला उम्मीदवार प्लाटून कमांडर के पद पर भर्ती के लिए पात्र नहीं होंगी. इसके बाद भी चार हजार से अधिक महिलाओं को पात्र मान लिया गया है.

इससे पात्र पुरुष उम्मीदवार चयन प्रक्रिया से बाधित हो गए हैं. इसके साथ ही एक्स सर्विस मैन के लिए 1900 पद स्वीकृत हैं, जबकि कुल पात्र उम्मीदवारों की संख्या ही 450 के करीब हैं.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *